News

आज की बृज रस धारा

🌹🌹आज की ब्रज रस धारा 🌹🌹

दिनांक 12/01/2019

मीरा चरित्र – मीरा का आलौकिक वृन्दावन में प्रवेश


एक रात्रि मीरा की नींद अचानक से उचट गई। उन्हें लगा कि जैसे कोई खटका सा हुआ है ।मिट्टी की दीवारों और खपरैल की छत से बने इस साधारण से कक्ष में भूमि पर ही मीरा के सोने का बिछौना था। पैरों की ओर तीनों दासियाँ सोयी हुईं थी। दोनों सेवक आगे वाले दूसरे कक्ष में थे। अंधेरे से अभ्यसत हो जाने में आँखों को दो क्षण लगे।मीरा ने देखा कि चम्पा अपनी शय्या से  उठ खड़ी हुई है , किन्तु क्या यह वही उनकी प्रिय दासी और सखी चम्पा है ? हाँ और नहीं भी ।वृन्दावन आते समय उनके स्वयं की और दासियों की देह पर एक भी अलंकार नहीं था। सबके वस्त्र सादे और साधारण किस्म के थे, किन्तु इस समय तो चम्पा दिव्य रत्न जड़ित वस्त्र आभूषणों से अलंकृत खड़ी थी। 

वैसे भी चम्पा गौरवर्णा थी , किन्तु इस समय उसका वर्ण स्वर्ण चम्पा के समान था। उसका गुजरिया के समान ऊँचा घेरदार घाघरा , कंचुकी और ओढ़नी , पैरों में मोटे घुँघरू के नूपुर गूँथे छड़े , हाथों में मोटे मोटे स्वर्ण कंगनों के बीच हीरक जटित चूड़ियाँ थी उसके मुख की शोभा के सम्मुख मीरा का अपना सौन्दर्य फीका लग रहा था ।उसके नेत्रों में कैसी सरलता ………!!!मीरा ने देखा – कि चम्पा उसकी ओर बढ़ी उसकी प्रथम पदक्षेप से नुपूरों की क्षीण मधुर झंकार ने ही उन्हें जगाया था। दो पद आगे बढ़कर वह नीचे झुकी और मीरा का हाथ थामकर बोली -” माधवी !!! उठ चल !!!”मीरा चकित रह गई ।चम्पा सदा उन्हें आदरपूर्ण शब्दों से सम्बोधित करती रही है। यद्यपि मीरा उसे दासी से अधिक सखी मानती थीं , पर उसने अपने को दासी से अधिक कभी कुछ नहीं समझा ।वही चम्पा आज इस प्रकार बोल रही है और यह माधवी कौन है ? क्षण भर में ये सब विचार उसके मस्तिष्क में घूम गये।चम्पा ने फिर उसे उठने का संकेत किया तो वह उठकर खड़ी हो गई ।मीरा ने कुछ कहना चाहा तो, चम्पा ने अपनी सुन्दर अंगूठी से विभूषित तर्जनी अंगुली को अपने अरूण अधरों पर धरकर चुप रहने का संकेत किया। ऐसा लगता था कि इस समय चम्पा स्वामिनी है और मीरा मात्र दासी। वे दोनों धीरे-धीरे चलकर द्वार के समीप आई ।अपने आप रूद्ध द्वार-कपाट उदघाटित हो गये और वे दोनों बाहर आ गई।मीरा ने देखा – कि जिस वृन्दावन में वह रहती है , घूमती है , यह वैसा नहीं है। वृक्ष , लता ,पुष्प सब दिव्य है। पवन , धरा और गगन भी दिव्य है। इस सबकी उपमा कैसे दें ? क्योंकि यह सब इस जगत का नहीं ब्लकि सब दिव्य , आलौकिक है।हवा चलती है तो ऐसा लगता है कि जैसे कानों के समीप मानों चुपके चुपके कोई भगवन्नाम ले रहा हो। वृक्षों के पत्ते हिलते है तो मानों कीर्तन के शब्द मुखरित होते है। रात्रि होने पर भी भंवरे गुनगुना रहे है और वह गुनगुनाहट और कुछ नहीं भगवन्नाममयी ही है। तनिक ध्यान देने पर लगता है कि सम्पूर्ण प्रकृति श्री राधा-माधव-प्रेम-रस में निमग्न है।सघन वन पार कर के वे दोनों गिरिराज की तरहटी में पहुँची। गिरिराज की नाना रत्नमयी शिलाओं से प्रकाश विकीर्ण हो रहा था। तरहटी में कदम्ब वृक्षों से घिरा हुआ निकुञ्ज भवन दिखाई दिया। कैसा आश्चर्य ?? इस भवन की भीतियाँ ,वातायन ( खिड़कियाँ एवं रोशनदान ) आदि सब कुछ कमल,। मालती , चमेली और मोगरे के पुष्पों से निर्मित है गिरिराज जी का दर्शन करते ही मीरा को कुछ देखा देखा सा लगा ऐसा लगता था मानों उसकी स्मृति पर हल्का सा पतला पर्दा पड़ा हुआ है । अभी याद आया,अभी याद आया की ऊहापोह में वह चलती गई……….।

          “श्री श्याम सुन्दर गोस्वामी जी “

Share it on

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shree Ji Barsana Mandal Trust (SJBMT)

counter