News

आज की बृज रस धारा

श्री राधे 

“श्रील नारायण भट्ट ज़ू जयति”

“श्री नारायण दास गोस्वामी जयति”

??आज की ब्रज रस धारा  

दिनांक 13/06/2018

जहाँ कृष्ण भी असमर्थ है

भगवान श्री कृष्ण गोपियों के नित्य ऋणी है,उन्होंने अपना यह सिद्धात घोषित किया है “ये यथा मां प्रपधन्ते तांस्तथै भजाम्यहम“,अर्थात जो मुझे जैसे भजते है उन्हें मै वैसे ही भजता हूँ.

इसका यह तात्पर्य समझा जाता है कि भक्त जिस प्रकार से और जिस परिमाण के फल को द्रष्टि में रखकर भजन करता है

भगवान उसको उसी प्रकार और उसी परिमाण में फल देकर उसका भजन करते है-

सकाम, निष्काम शांत, दास्य, वात्सल्य, सख्य,आदि कि जिस प्रकार की कामना, भावना, भक्त की होती है, भगवान उसे वही वस्तु प्रदान करते है.

परन्तु गोपियों के सम्बन्ध में भगवान के इस सिद्धात वाक्य कि रक्षा नहीं हो सकी इसके प्रधान तीन कारण है-

१. –  गोपी के कोई भी कामना नहीं है.अतएव श्रीकृष्ण उन्हें क्या दे.

२. –  गोपी के कामना है केवल श्रीकृष्णसुख की, श्रीकृष्ण इस कामना कि पूर्ति करने जाते है तो उनको स्वयं अधिक सुखी होना पडता है अतः इस दान से ऋण और भी बढ़ता है.

३. – जहाँ गोपियों ने सर्व त्याग करके केवल श्री कृष्ण के प्रति ही अपने को समर्पित कर दिया है

वहाँ श्रीकृष्ण का अपना चित्त बहुत जगह बहुत से प्रेमियों के प्रति प्रेम युक्त है अतएव गोपी प्रेम अनन्य और अखंड है कृष्ण प्रेम बिभक्त और खंडित है.

इसी से गोपी के भजन का बदला उसी रूप में श्रीकृष्ण उसे नहीं दे सकते, और इसी से अपनी असमर्थता प्रकट करते हुए वे कहते है – गोपियों तुमने मेरे लिए घर कि उन बेडियो को तोड़ डाला है

जिन्हें बड़े-बड़े योगी-यति भी नहीं तोड़ पाते, मुझसे तुम्हारा यह मिलन, यह आत्मिक संयोग सर्वथा निर्मल और सर्वथा निर्दोष है.

यदि मै अमर शरीर से, अमर जीवन से, अनंत काल तक, तुम्हारे प्रेम,सेवा और त्याग का बदला चुकाना चाहूँ

, तो भी नहीं चूका सकता.मै सदा तुम्हारा ऋणी हूँ तुम अपने सौम्य स्वभाव से ही प्रेम से ही मुझे उऋण कर सकती हो परन्तु मै तो तुम्हारा ऋणी ही हूँ.

इसलिए प्रेममार्गी भक्त को चाहिये कि वह अपनी समझ से तन, मन, वचन से होने वाली प्रत्येक चेष्टा को श्रीकृष्ण सुख के लिए ही करे,जब-जब मन में प्रतिकूल स्थिति प्राप्त हो,

तब-तब उसे श्रीकृष्ण कि सुखेच्छाजनित स्थिति समझकर परमसुख का अनुभव करे, यो करते-करते जब प्रेमी भक्त केवल श्रीकृष्णसुख-काम अनन्यता पर पहुँच जाता है,

तब श्रीकृष्ण के मन की बात भी उसे मालूम होने लगती है गोपियों के श्रीकृष्णानुकुल जीवन में यह प्रत्यक्ष प्रमाण है.

इसलिए भगवान अर्जुन से कहते है – गोपियाँ ,मेरी सहायिका, मेरी गुरु, शिष्या, भोग्या , बान्धव,  स्त्री है अर्जुन मै गोपियाँ मेरी क्या नहीं है,

सबकुछ है मेरी महिमा को ,मेरी सेवा को, मेरी श्रद्धा को, और मेरे मन के भीतरी भावों को गोपियां ही जानती है दूसरा कोई नहीं जानता.

          “श्री श्याम सुन्दर गोस्वामी जी ”

      सेवाधिकारी श्री राधा रानी मन्दिर बरसाना 

          श्री जी बरसाना मण्डल ट्रस्ट (रजि०)

            Website:- www.sjbmt.in

Contact Us:-08923563256,07417699169

Share it on

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shree Ji Barsana Mandal Trust (SJBMT)

counter